क्या खरीदें चिकनकारीकुर्ती साड़ीलंहगासोने के जेवरमेकअप फुटवियर Trends

---Advertisement---

जेल में बंद पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी की मौत, आज किया जाएगा सुपुर्द-ए-खाक

By News Desk

Updated on:

Mukhtar Ansari

जेल में बंद पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी (Former MLA Mukhtar Ansari) की गुरुवार रात दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। शाम को तबीयत बिगड़ने पर अंसारी को बांदा जिला जेल से बांदा मेडिकल कॉलेज ले जाया गया,जहां उनकी मौत हो गई है।

पूर्व विधायक मुख्तार (Former MLA Mukhtar Ansari) की मौत के बाद उनके आवास के बाहर भारी पुलिस तैनाती की गई। उत्तर प्रदेश में धारा 144 भी लगाई गई। मऊ में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पोस्टमार्डम के बाद आज शाम तक काली बारी कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया जाएगा।

पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी मऊ सीट से पांच बार विधान सभा के सदस्य के रूप में चुने गए थे।

  1. 1996 2002 मऊ BSP से विधायक (पहला कार्यकाल)
  2. 2002 2007 मऊ IND से विधायक (दूसरा कार्यकाल)
  3. 2007 2012 मऊ IND से विधायक (तीसरा कार्यकाल)
  4. 2012 2017 मऊ QED से विधायक (चौथा कार्यकाल)
  5. 2017 2022 मऊ BSP से विधायक (5वीं बार)

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी ने रमजान के पवित्र महीने में रोजा रखा था। दोपहर करीब 3:30 बजे उनकी अपने बेटे से बात हुई थी।

CM योगी आदित्यनाथ ने आपात बैठक बुलाई

पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी Former MLA Mukhtar Ansari) की मौत के बाद CM योगी आदित्यनाथ ने आपात बैठक बुलाई। उन्होंने  अधिकारियों को निर्देश दिया कि किसी भी हालत में राज्य में कानून व्यवस्था में कोई तरह की दिक्कत नहीं हो। लॉ एंड आर्डर को लेकर राज्य के कई हिस्सों में प्रशासन को अर्लट किया गया है।

मुख्तार अंसारी को क्यों हुई आजीवन कारावास की सजा ?

2006 में कृष्णानंद राय की हत्या के मुख्य गवाह शशिकांत की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। 2004 में डीएसपी शैलेन्द्र सिंह मुख्तार ने अंसारी के ठिकाने से एक लाइट मशीन गन बरामद की थी। उनके खिलाफ पोटा कानून के तहत मामला दर्ज किया गया।

2012 में, अंसारी पर एक संगठित गिरोह चलाने के लिए मकोका के तहत मामला दर्ज किया गया था।

अप्रैल 2023 में, उन्हें भाजपा के कृष्णानंद राय की हत्या के लिए 10 साल जेल की सजा सुनाई गई थी।

13 मार्च 2024 को अंसारी को हथियार लाइसेंस मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

मुख्तार अंसारी और राजनीति

मुख्तार अंसारी का जन्म 3 जून 1963 को गाज़ीपुर जिले के मोहम्मदाबाद में हुआ था। उनके पिता का नाम सुबाउल्लाह अंसारी और माता का नाम बेगम रबिया है। मुख्तार अंसारी का परिवार ग़ाज़ीपुर के एक प्रतिष्ठित राजनीतिक परिवार से है।

मुख्तार अंसारी के नाना ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान को 1947 के युद्ध में उनकी शहादत के लिए महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था।

मुख्तार अंसारी के पिता सुभानुल्लाह अंसारी गाजीपुर की राजनीति में सक्रिय थे। उनकी छवि बहुत साफ-सुथरी है।

Leave a Comment

Adblock Detected!

Our website is made possible by displaying online advertisements to our visitors. Please consider supporting us by whitelisting our website.